IPA NEWS AGENCY

Breaking News

कानपुर के पुराने जाजमऊ पुल से निकलते हैं तो रहें सावधान,कभी भी ढह सकता है,

DATE POST : 2019/Nov/12 09:52:46PM

लखनऊ से कानपुर आनेे के लिए जाजमऊ स्थित गंगा का पुराना पुल जर्जर होने से खतरनाक हो गया है। यह पुल कभी भी ढह सकता है। इसका अंदेशा तो पहले से जताया जा रहा था लेकिन सोमवार को पुल की जांच करने आए एनएचएआइ के अधिकारियों के साथ सर्वेयर कंपनी एसएच इंफ्राटेक के प्रतिनिधियों ने जब निरीक्षण किया तो दंग रह गए। पुल के हर पिलर में उन्हें टूटे और ज्वाइंट क्षतिग्रस्त मिले। अफसरों ने माना कि पुल अब आवागमन के लायक नहीं है। फिर भी जरूरत हो तो कम भार वाले वाहनों को बेहद धीमी गति से गुजारा जाए। साथ ही इसकी मरम्मत का तत्काल इंतजाम शुरू कर देना चाहिए, नहीं तो कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।यह पुल हमीरपुर, महोबा, झांसी, जालौन, कानपुर देहात, चित्रकूट समेत दो दर्जन जिलों के लोगों को लखनऊ से जोड़ता है। 1975 में बनाया गया पुल लंबे समय से जर्जर है। पिछले साल थोड़ी बहुत मरम्मत का कार्य एनएचआइ ने किया था। कुछ ही दिनों में पुल की हालत फिर पुरानी जैसी हो गई। सोमवार को एनएचएआइ के अधिकारियों के साथ सर्वेयर कंपनी एसएच इंफ्राटेक के प्रतिनिधियों ने पुराना जाजमऊ पुल का निरीक्षण किया और माना कि अब यह पुल चलने योग्य नहीं है। टीम लीडर देवाशीष वर्मा ने बताया कि पुल जर्जर हो गया है। इस पर आवागमन खतरे से खाली नहीं है। अगर इसकी जल्द मरम्मत न हुई तो कभी भी हादसा हो सकता है। वह प्रशासन को सुझाव देंगे कि पुल पर भारी वाहनों की आवाजाही को तत्काल रोक दें। पुल पर वाहनों की गति 20 से 30 किमी प्रतिघंटा रखें। यही नहीं, वाहनों के बीच 20 से 25 मीटर की दूरी बनी रहे। सदस्यों ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को निरीक्षण रिपोर्ट देने के लिए कहा है। एनएचएआइ के अधिकारियों के मुताबिक सीमेंटेड ढांचे का पुल लगभग 100 वर्ष चलता है, लेकिन इसके लिए जरूरी है कि पुल का मेंटीनेंस समय-समय पर हो। जानकारों की मानें तो 44 साल की उम्र के इस पुल की केवल वर्ष 2009 में मरम्मत हुई थी। 2018 में केवल काम चलाऊ मेंटीनेंस किया गया, जबकि नियमों के मुताबिक पुल का मेंटीनेंस हर साल होना चाहिए। इसके अलावा सड़क की मरम्मत चार साल में, बिटुमिन मास्टिक (कंकरीट) की मरम्मत दस साल में होनी चाहिए।एनएचएआइ के परियोजना निदेशक पुरुषोत्तम लाल चौधरी ने बताया कि एसएच इंफ्राटेक के प्रतिनिधियों से रिपोर्ट लेंगे और जरूरी कदम उठाएंगे। मंत्रालय को जानकारी देने के बाद पुल की मरम्मत का काम शुरू होगा।पुल का निर्माण कई भागों में अलग-अलग किया जाता है। दो स्लैब के बीच कुछ स्थान दिया जाता है। यह स्थान इसलिए छोड़ा जाता है ताकि वाहन गुजरते समय जो विचलन हो उसे बेयङ्क्षरग के माध्यम से नियंत्रित किया जा सके। इस स्थान को भरने में रबर का प्रयोग किया जाता है, जिसमें अब या तो बड़ा गैप हो गया है या कहीं-कहीं पर यह गैप समाप्त हो चुका है और बीच में कंकड़-पत्थर भर गए हैं। इन हालात में वाहनों का भार सीधे पिलर पर पड़ता है, जिसकी वजह से पूरा स्ट्रक्चर प्रभावित होता है। इसी वजह से भारी वाहन गुजरने पर पुल का पूरा ढांचा हिलने लगता है। लगभग हर पिलर की बेयङ्क्षरग खराब हैं। पुल में दो जगहों पर सीमेंटेड स्ट्रक्चर में ऊपर से दरारें पड़ गई हैं।


Share this -

Related Post-

दिल्ली-NCR में बारिश से मौसम सुहाना, केरल में 31 तक दस्तक देगा मानसून

नई दिल्ली: भीषण गर्मी से परेशान लोगों को सोमवार सुबह राहत मिली है। सोमवार को दिल्ली एनसीआर में बारिश ने मौसम को सुहाना बना दिया। बारिश होने दिल्ली एनसीआर में लोगों को गर्मी से राहत मिली है। हांलांकि रविवार को दिल्ली एनसीआर में लोगों को चिलचिलाती धूप और उमस का सामना करना पडा। कई इलाकों में तो तापमान 45 डिग्

आजम का तंज-जहां बेशर्मी का नंगा नाच हो, वहां न जाएं लडकियां

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले से एक सनसनीखेज वीडियो सामने आने के बाद सपा के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां ने तंज मिश्रित बयान दिया है। उन्होंने कहा, इसमें नया क्या है। यूपी में भाजपा सरकार आने के बाद यहां रेप और हत्याओं के मामले कई बार सामने आ चुके हैं। सपा नेता ने कहा, लडकियों को उन जगहों पर नहीं जाना च

N.KOREA ने फिर किया बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण, जापान सागर में गिरी

सोल: उत्तरी कोरिया ने सोमवार को फिर से एक बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है। गौरतलब है कि बैलेस्टिक मिसाइल के परीक्षण को लेकर अमेरिका कई बार नॉर्थ कोरिया को चेतावनी दे चुका है लेकिन नॉर्थ कोरिया को अमेरिका की चेतावनी की कोई परवाह नहीं है। ज्ञातव्य है कि नॉर्थ कोरिया ने हाल के महीनों में कई बार बैलेस्टि


Comment


कानपुर के पुराने जाजमऊ पुल से निकलते हैं तो रहें सावधान,कभी भी ढह सकता है,


LEAVE A REPLY


© 2002 IPA NEWS Agency in & powered by Indian Press Association New Delhi | Design by SiS Technologies

www.reliablecounter.com