IPA NEWS AGENCY

Breaking News

दुश्मन की सीमा में 700 किलोमीटर जाकर वार करने वाला ड्रोन बना रहा है एचएएल,

DATE POST : 2021/Feb/04 05:17:18PM

हिन्दुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड ऐसा ड्रोन तथा हथियार प्रणाली विकसित कर रहा है जो दुश्मन की सीमा में 700 किलोमीटर तक मार करने में सक्षम होगा। एचएएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक आर माधवन तथा निदेशक इंजीनियर अरूप चटर्जी ने गुरुवार को यहां एयरो इंडिया के दौरान आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कैटस हंटर नाम के इस ड्रोन को देश में ही बने लड़ाकू विमान तेजस या किसी भी अन्य विमान से मिसाइल की तरह दागा जा सकेगा।उन्होंने कहा कि इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि इस ड्रोन को लड़ाकू विमान अपनी सीमा में रह कर दाग सकते हैं और ये दुश्मन की सीमा में 700 किलोमीटर तक मार कर सकेंगे। इसके अलावा ये साढे तीन सौ किलोमीटर की दूरी तक मार करने के बाद वापस भी आ सकते हैं।माधवन ने कहा कि यह एचएएल का ड्रीम प्रोजेक्ट है और इसे पूरा करने में चार से पांच साल का समय लगने की संभावना है। इसके बाद इसे मदरशिप तेजस आदि में फिट करने की व्यवस्था में भी 18 महीने का समय लगेगा। इस ड्रोन का वजन दो टन होगा और यह अपने साथ पांच से आठ किलोग्राम के बम ले जाने में सक्षम होगा। ये बम मदरशिप से नियंत्रित किए जा सकते हैं। इस परियोजना पर 400 से 500 करोड़ रुपये का खर्च आने की संभावना है।उन्होंने कहा कि इसके अलावा भविष्य की चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए एचएएल एक ऐसा मानवरहित उपग्रह भी विकसित करने की योजना बना रहा है जो 70 हजार किलोमीटर की ऊंचाई से निगरानी और हमला करने में सक्षम होगा। वायु सेना के लिए 83 तेजस मार्क 1 ए के निमार्ण आर्डर का उल्लेख करते हुए एक सवाल के जवाब में श्री माधवन ने कहा कि इस एक विमान की कीमत केवल 309 करोड रुपये होगी जो इस श्रेणी के दुनिया के किसी भी विमान की तुलना में सस्ती है। उन्होंने कहा कि 83 तेजस पर करीबन 48 हजार करोड़ रुपये की लागत आएगी लेकिन इस का करीब आधा हिस्सा 22 हजार रुपये कर, कलपूर्जों और अन्य उपकरणों के लिए है। जहां तक कीमत का सवाल है 83 विमानों की कीमत 25000 करोड़ रुपये के करीब होगी। उन्होंने कहा कि इस विमान का ट्रेनर संस्करण केवल 288 करोड़ रुपये का होगा।माधवन ने कहा कि पहले दो तेजस विमानों की आपूर्ति अगले 36 महीनों में कर दी जाएगी जबकि सभी 83 विमानों की आपूर्ति आठ से नौ सालों में कर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि दक्षिण एशिया के कुछ देशों ने इसकी खरीद में रूचि दिखाई है। उन्होंने कहा कि अभी तेजस मार्क 1 ए में स्वदेशी सामग्री 52 प्रतिशत है और इसे जल्द ही 65 प्रतिशत तक ले जाया जायेगा। अभी इस विमान में अमेरिकी इंजन तथा इजरायली राडार लगाया जा रहा है।राफाल विमान के एचएएल द्वारा बनाये जाने संबंधी सवाल पर उन्होंने कहा कि यह अनुबंध प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण से संबंघित मुददे के कारण पूरा नहीं हो सका। उन्होंने कहा कि यदि इस मुददे का समाधान हो जाये तो एचएएल राफाल का निमार्ण करने में सक्षम है।


Share this -

Related Post-

दिल्ली-NCR में बारिश से मौसम सुहाना, केरल में 31 तक दस्तक देगा मानसून

नई दिल्ली: भीषण गर्मी से परेशान लोगों को सोमवार सुबह राहत मिली है। सोमवार को दिल्ली एनसीआर में बारिश ने मौसम को सुहाना बना दिया। बारिश होने दिल्ली एनसीआर में लोगों को गर्मी से राहत मिली है। हांलांकि रविवार को दिल्ली एनसीआर में लोगों को चिलचिलाती धूप और उमस का सामना करना पडा। कई इलाकों में तो तापमान 45 डिग्

आजम का तंज-जहां बेशर्मी का नंगा नाच हो, वहां न जाएं लडकियां

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले से एक सनसनीखेज वीडियो सामने आने के बाद सपा के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां ने तंज मिश्रित बयान दिया है। उन्होंने कहा, इसमें नया क्या है। यूपी में भाजपा सरकार आने के बाद यहां रेप और हत्याओं के मामले कई बार सामने आ चुके हैं। सपा नेता ने कहा, लडकियों को उन जगहों पर नहीं जाना च

N.KOREA ने फिर किया बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण, जापान सागर में गिरी

सोल: उत्तरी कोरिया ने सोमवार को फिर से एक बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है। गौरतलब है कि बैलेस्टिक मिसाइल के परीक्षण को लेकर अमेरिका कई बार नॉर्थ कोरिया को चेतावनी दे चुका है लेकिन नॉर्थ कोरिया को अमेरिका की चेतावनी की कोई परवाह नहीं है। ज्ञातव्य है कि नॉर्थ कोरिया ने हाल के महीनों में कई बार बैलेस्टि


Comment


दुश्मन की सीमा में 700 किलोमीटर जाकर वार करने वाला ड्रोन बना रहा है एचएएल,


LEAVE A REPLY


© 2002 IPA NEWS Agency in & powered by Indian Press Association New Delhi | Design by SiS Technologies

www.reliablecounter.com