IPA NEWS AGENCY

Breaking News

चमोली में ग्लेशियर टूटने से ऋषिगंगा और धौलीगंगा नदियां उफनाईं,170 लोगों की मौत की आशंका,

DATE POST : 2021/Feb/07 07:56:55PM

उत्तराखंड में रविवार सुबह बहुत बड़ा हादसा हुआ। राज्य के चमोली जिले के तपोवन में ग्लेशियर टूटकर ऋषिगंगा नदी में गिरा। इससे बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई और धौलीगंगा पर बन रहा बांध बह गया। तपोवन में एक प्राइवेट पावर कंपनी के ऋषिगंगा हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट और सरकारी कंपनी एनटीपीसी के प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। आपदा में सबसे ज्यादा नुकसान यहीं हुआ।ऋषिगंगा प्रोजेक्ट में काम कर रहे 15 से 20 मजदूर लापता बताए जा रहे हैं। इसके साथ ही एनटीपीसी प्रोजेक्ट पर करीब 150 मजदूरों की जान जाने की आशंका है। प्रोजेक्ट साइट से तीन शव बरामद हुए हैं। इस बीच, मौके पर रेस्क्यू के लिए पहुंची ITBP की टीम ने तपोवन प्रोजेक्ट के पास टनल में फंसे सभी 16 लोगों को निकाल लिया है।पीपल कोटी से चमोली के बीच में अलकनंदा नदी का जलस्तर तो बढ़ा है, लेकिन नदी का क्षेत्र चौड़ा होने से बहाव सामान्य हो गया है। हादसे के बाद एनडीआरएफ और एडीआइआरएफ की टीमें मौके पर पहुंच कर बचाव कार्य कर रही हैं। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मरने वालों के परिवार को 4 लाख रुपए की मदद देने का ऐलान किया है। मारे गए लोगों के परिवार को प्रधानमंत्री नेशनल रिलीफ फंड से भी 2 लाख रुपए दिए जाएंगे। घायलों को 50 हजार रुपए की मदद दी जाएगी। ग्लेशियर टूटने से धौली नदी ने विकराल रूप ले लिया। देखते ही देखते नदी के रास्ते में आने वाले हर अवरोध को पाटना शुरू कर दिया। ऋषिगंगा पॉवर प्रोजेक्ट साइट तक पहुंचते-पहुंचते नदी इतनी विकराल हो गई कि उसने पूरे बांध को ही बहा दिया। मौके पर मौजूद तमाम मशीने और लोग इसकी चपेट में आ गए।हरकत में आए प्रशासन ने हरिद्वार तक अलर्ट किया और टिहरी बांध से भागीरथी में पानी का डिस्चार्ज बंद किया गया। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत मौके पर पहुंचे हैं और हालात की मॉनीटरिंग कर रहे हैं। हादसे के बाद से अलकनंदा और गंगा से किनारे के इलाकों में दहशत है। ऋषिकेश में राफ्टिंग और नावों पर रोक लगा दी गई है। श्रीनगर हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट के बांध को भी खाली कर दिया गया है, ताकि पीछे से पानी बढ़ने पर बांध का जलस्तर न बढ़े।धौलीगंगा का जल स्तर बढ़ने के बाद काफी नुकसान पहुंचा है। ऋषिगंगा और धौलीगंगा में जल स्तर बढ़ गया है।चमोली के तपोवन इलाके में सुबह करीब साढ़े 10 बजे ग्लेशियर टूटकर ऋषिगंगा में गिर गया। इससे नदी का जल स्तर बढ़ गया। यही नदी रैणी गांव में जाकर धौलीगंगा से मिलती है इसीलिए उसका जल स्तर भी बढ़ गया। नदियों के किनारे बसे घर बह गए। इसके बाद आसपास के गांवों को खाली कराया गया।ऋषिगंगा नदी के किनारे स्थित रैणी गांव में ऋषिगंगा पावर प्रोजेक्ट पड़ता है। यह प्रोजेक्ट पूरी तरह तबाह हो गया है। यहां से करीब 15-20 मजदूर लापता हैं। यहीं पर जोशीमठ मलारिया हाईवे पर बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन का बनाया ब्रिज भी टूट गया। यहीं पर 6 चरवाहे और उनके मवेशी पानी में बह गए। यहां रेस्क्यू टीमें पहुंच चुकी हैं। ऋषिगंगा का पानी जहां धौलीगंगा से मिलता है, वहां भी जल स्तर बढ़ गया। पानी एनटीपीसी प्रोजेक्ट में घुस गया। इस वजह से गांव को जोड़ने वाले दो झूला ब्रिज बह गए।एनटीपीसी प्रोजेक्ट में काम करने वाले करीब 150 मजदूरों की जान जाने की आशंका है।यहां अब तक 10 शव बरामद किए गए हैं।एनटीपीसी की सुरंग से 16 मजदूरों को बचाया गया है। रेस्क्यू टीमें लगातार ऑपरेशन चला रही हैं। एसडीआरएफ, एनडीआरएफ, आइटीबीपी,के अलावा आर्मी ने भी अपने 600 जवान चमोली भेजे हैं। इसके अलावा वायुसेना ने Mi-17 और ध्रुव समेत तीन हेलिकॉप्टर रेस्क्यू मिशन पर भेजे हैं। वायुसेना ने कहा कि जरूरत पड़ने पर और एयरक्राफ्ट भेजे जाएंगे।ग्लेशियर फटने के बाद धौलीगंगा का जलस्तर इस तरह बढ़ा कि किनारे के कई घर पानी में बह गए।हादसे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत से बात की और हर मदद का भरोसा दिया। त्रिवेंद्र सिंह रावत खुद चमोली पहुंच चुके हैं।मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जनता से अपील की है कि वो अफवाहों पर ध्यान न दें। सरकार ने हेल्पलाइन नंबर 1905, 1070 और 9557444486 जारी किए हैं। सरकार ने अपील की है कि इस घटना के बारे में पुराने वीडियो सर्कुलेट कर अफवाह न फैलाएं। हरिद्वार में कुंभ मेला चल रहा है और इसलिए वहां अलर्ट जारी किया गया है।उत्तराखंड पुलिस के मुताबिक श्रीनगर, ऋषिकेश और हरिद्वार में पानी का स्तर खतरे के निशान से ऊपर जा सकता है। उत्तर प्रदेश में गंगा के किनारे बसे शहरों में अलर्ट जारी किया गया है। बिजनौर, कन्नौज, फतेहगढ़, प्रयागराज, कानपुर, मिर्जापुर, गढ़मुक्तेश्वर, गाजीपुर और वाराणसी जैसे कई जिलों में अधिकारी लगातार नजर रख रहे हैं।16-17 जून 2013 को बादल फटने और इसके बाद ग्लेशियर टूटने से रुद्रप्रयाग, चमोली, उत्तरकाशी, बागेश्वर, अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ जिलों में भारी तबाही मची थी। इस आपदा में 4,400 से ज्यादा लोग मारे गए या लापता हो गए। 4,200 से ज्यादा गांवों का संपर्क टूट गया। इनमें 991 स्थानीय लोगों की अलग-अलग जगह मौत हुई। 11,091 से ज्यादा मवेशी बाढ़ में बह गए या मलबे में दबकर मर गए। ग्रामीणों की 1,309 हेक्टेयर भूमि बाढ़ में बह गई। 2,141 मकानों का नामों-निशान मिट गया। 100 से ज्यादा होटल तबाह हो गए। आपदा में 9 नेशनल हाई-वे, 35 स्टेट हाई-वे और 2385 सड़कें 86 मोटर पुल, 172 बड़े और छोटे पुल बह गए या क्षतिग्रस्त हो गए थे।


Share this -

Related Post-

दिल्ली-NCR में बारिश से मौसम सुहाना, केरल में 31 तक दस्तक देगा मानसून

नई दिल्ली: भीषण गर्मी से परेशान लोगों को सोमवार सुबह राहत मिली है। सोमवार को दिल्ली एनसीआर में बारिश ने मौसम को सुहाना बना दिया। बारिश होने दिल्ली एनसीआर में लोगों को गर्मी से राहत मिली है। हांलांकि रविवार को दिल्ली एनसीआर में लोगों को चिलचिलाती धूप और उमस का सामना करना पडा। कई इलाकों में तो तापमान 45 डिग्

आजम का तंज-जहां बेशर्मी का नंगा नाच हो, वहां न जाएं लडकियां

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले से एक सनसनीखेज वीडियो सामने आने के बाद सपा के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां ने तंज मिश्रित बयान दिया है। उन्होंने कहा, इसमें नया क्या है। यूपी में भाजपा सरकार आने के बाद यहां रेप और हत्याओं के मामले कई बार सामने आ चुके हैं। सपा नेता ने कहा, लडकियों को उन जगहों पर नहीं जाना च

N.KOREA ने फिर किया बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण, जापान सागर में गिरी

सोल: उत्तरी कोरिया ने सोमवार को फिर से एक बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है। गौरतलब है कि बैलेस्टिक मिसाइल के परीक्षण को लेकर अमेरिका कई बार नॉर्थ कोरिया को चेतावनी दे चुका है लेकिन नॉर्थ कोरिया को अमेरिका की चेतावनी की कोई परवाह नहीं है। ज्ञातव्य है कि नॉर्थ कोरिया ने हाल के महीनों में कई बार बैलेस्टि


Comment


चमोली में ग्लेशियर टूटने से ऋषिगंगा और धौलीगंगा नदियां उफनाईं,170 लोगों की मौत की आशंका,


LEAVE A REPLY


© 2002 IPA NEWS Agency in & powered by Indian Press Association New Delhi | Design by SiS Technologies

www.reliablecounter.com